Tuesday, 21 March 2017

गर्मियों में वजन घटाने वाले आहार

मोटापा पर्सनैलिटी को तो बिगाड़ता ही हैं साथ ही आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए भी बहुत हानिकारक होता है, क्‍योंकि बढ़ता वजन कई बीमारियों की जड़ होता है। इसलिए वजन कम करने के उपाय किये जाते हैं।

 गर्मियों का मौसम वजन कम करने के लिए बेस्ट माना जाता है क्योंकि इस मौसम में खाने-पीने की आदतें अपने आप ही बदल जाती है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आप भूखे रहें या खाना छोड़ दें।


जीरे से करे 15 दिनों में वजन कम!

किसी भी डिश को स्वादिष्ट बनाने के लिए मसालों का बहुत महत्वूपर्ण रोल होता है. भारतीन व्यंजनों में खासतौर पर अलग-अलग मसाले डालकर खाना पकाया जाता है लेकिन क्या आप जानते हैं इन मसालों का अपना अलग ही फायदा होता है?क्या आप जानते हैं जीरे का इस्तेमाल ना सिर्फ फ्लेवर और अरोमा के लिए इस्तेमाल होता है


 बल्कि इसके कई हेल्थ बेनिफिट्स भी होते हैं. आपको जानकर हैरानी होगी लेकिन एक चुटकी जीरा आपके वजन घटाने में महत्वपूर्ण योगदान देता है.
अगर आप वजन कम करने का प्रयास कर रहे हैं तो आपके लिए खुशखबरी है. एक नई रिसर्च में पाया गया है कि जीरे के पाउडर से आसानी से वजन कम किया जा सकता है. जीरा पाउडर खाने में इस्तेमाल करने से ना सिर्फ बॉडी का फैट कम होता है बल्कि बैड कॉलेस्ट्रॉल को भी ये नैचुरली कम करने लगता है


जानें वजन घटाने में कितनी मददगार है अजवाइन

मोटापा न सिर्फ आपकी पर्सनेलटी को खराब करता है, बल्कि कई बीमारियों का कारण भी बनता है। लेकिन मोटापा कम करना कोई आसान काम भी तो नहीं। लेकिन अगर हम आपको मोटापा कम करने का एक ऐसा नुस्खा बताएं जो न सिर्फ मोटापा कम करता है

 बल्कि बेहद सस्ता और आसानी से मिल जाने होता है, तो कैसा रहेगा। आपने अपनी रसोई में कई तरह के देखे होगें। उन्‍हीं में से एक है मसाला है 'अजवाइन'। अजवाइन न सिर्फ एक मसाला है, बल्कि एक ऐसी औषधि भी है जिसके प्रयोग से मोटापा कम किया जा सकता है और स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर बनाया जा सकता है। तो चलिये जानें कि अजवाइन से मोटापे को कैसे कम किया जा सकता है


बच्चों के शरीर में प्रोटीन की कमी के लिए ये जरूर खिलाएं

बच्चों के शरीर के विकास के लिए सभी पोषण तत्व उपरोक्त मात्रा में चाहिए होते है, फिर चाहे वो कैल्शियम हो या प्रोटीन, प्रोटीन के सेवन से बच्चे के विकास में बहुत मदद मिलती है, क्योंकि प्रोटीन का सेवन करने से हमारे शरीर में कोशिकाओं और ऊतक का ख्याल रखने में मदद मिलती है, और साथ ही प्रोटीन उनकी मरम्मत भी करता है, और प्रोटीन का सेवन बच्चों की ग्रोथ के लिए बहुत जरुरी होता है, तो आइये जानते है की प्रोटीन के लिए आप बच्चे को किन किन पदार्थो का सेवन करवा सकते है


एक अध्यन के अनुसार बढ़ते बच्चे की ग्रोथ के लिए प्रोटीन का सेवन बहुत जरुरी होता है, एक से तीन वर्ष की उम्र में बच्चे को 13 ग्राम प्रोटीन रोजाना खाना चाहिए, 4 – 8 उम्र के बीच के बच्चों को नियमित 19 ग्राम, 9 – 13 वर्ष के बच्चों को नियमित 34 ग्राम, और 14 – 18 उम्र की लड़कियों को 46 ग्राम और लड़कों को 52 ग्राम प्रोटीन का सेवन नियमित रूप से करना चाहिए, क्योंकि यह बच्चे के शारीरिक विकास के लिए बहुत जरुरी होता है, और सिर्फ बच्चों के लिए ही नहीं बल्कि बूढ़ो, जवान और गर्भवती महिलाओ केलिए भी प्रोटीन का सेवन बहुत जरुरी होता है।
प्रोटीन बच्चों के लिए उनके भोजन का अहम अंग होना चाहहिये, क्योंकि इसके कारण उनकी ग्रोथ में मदद मिलती है, प्रोटीन में कार्बन, फॉस्फोरस, हाइड्रोजन, और ऑक्सीजन भी होता है, और प्रोटीन के सेवन के लिए आप बच्चों को तरह तरह की सब्जियों व् फलों का सेवन करवा सकते है, तो आइये अब विस्तार से बताते है की बच्चे के विकास के लिए और उसके शरीर में प्रोटीन मात्रा को पूरा करने के लिए आपको उन्हें किस किस चीज का सेवन करवाना चाहिए, और इसके कारण आप बच्चे के विकास में मदद कर सकते है, और उसे बेहतर पोषण भी दे सकते है।


कैसे मुँह की दुर्गंध से छुटकारा पायें

व्यक्ति के चेहरे की मुस्कुराहट उसके व्यक्तित्व को निखारती है। जिन लोगो की स्माइल सुंदर होती है उन्हे सभी अच्छी नज़रो से देखते है वही दूसरी ओर जिन लोगो को स्माइल खराब और आकर्षक नही होती उनसे कोई भी बात करना पसंद नही करता। चेहरे की स्माइल के खराब होने का तात्पर्य आपकी सुंदरता से नही है बल्कि आपके अंदर आई एक छोटी सी कमी से है। जो न केवल आपके दोस्तो को आपसे दूर करती है बल्कि आपको शर्मिंदा भी करती है। जी हाँ, हम सांसो से आने वाली दुर्गंध के बारे मे बात कर रहे है। जो न केवल आपकी सुंदरता को प्रभावित करती है बल्कि आपकी पर्सनालिटी के लिए भी ठीक नही है।
जिन लोगो के मुँह से दुर्गंध आती है उनसे कोई भी व्यक्ति बात करना पसंद नही करता। और उनके साथ बैठा-उठना भी बंद कर देते है। ये शर्मिंदगी उनके आत्मसम्मान को बहुत ठेस पहुँचाती है। इस तरह के लोग सार्वजनिक स्थानो पर जाने से भी कतराने लगते है। उन्ही इसी बात का डर बना रहता है की कही कोई उनका मजाक न उड़ाए। जिन लोगो के मुँह से दुर्गंध आती है वे आम लोगो की हंसी का पात्र बनते है। ये लोग अपनी समस्या किसी को बताने से भी कतराते है। क्योकि अधिकतर लोग किसी की परेशानी हल करने के बजाय उसका मजाक बनाना अधिक पसंद करते है।
कुछ लोगो को तो अपनी इस स्मास्या के बारे मे पता तक नही होता। यदि आप जाना चाहते है की क्या आपको भी यह समस्या है तो अपने हाथ को मुँह के सामने लाए और सांस छोड़े। फिर अपने हाथो को सूँघकर देखे, यदि आपके हाथो से smell आती है तो समझ लीजिय की आप भी इस समस्या से पीड़ित है। घबराने की बात नही है डॉक्टरी इलाज के अतिरिक्त और भी कई उपाय है जिनकी मदद से सांसो की बदबू से छुटकारा पाया जा सकता है


कैसे दो हफ्तों मे पेट की चर्बी कम करें

1

पेट की मांसपेशियों को अलग रखने की कोशिश न करें: पेट की चर्बी को शरीर के अन्य भागों की चर्बी की तरह एकदम से कम नहीं किया जा सकता है। शरीर की चर्बी को आहार और व्यायाम के संयोजन से ही हटाया जा सकता है।

2

खुद को भूखा ना रखें: भोजन को बहुत कम खाने से आपका शरीर वसा भंडारण प्रणाली में जाने लगता है, इसलिए आप नाश्ता, तंदुरस्त स्नैक्स और ताज़ा भोजन खायें। महिलाओं को प्रति दिन कम से कम 1,500 कैलोरी, जबकि पुरुषों को कम से कम 1,700 कैलोरी खानी चाहिए
3

आहार पर व्यायाम की तुलना में अधिक ध्यान दें: भले ही आहार और व्यायाम समीकरण के आवश्यक भाग हैं, लेकिन नींद और तनाव भी पेट की चर्बी को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। कम नींद और उच्च तनाव, कोर्टिसोल हारमोन का उत्पादन, मध्य वर्ग में वसा के जमाव के लिए आपके शरीर को को बताता है


कैसे थायरॉयड के साथ वजन कम करें

वज़न कम करना स्वस्थ व्यक्तियों के लिए अक्सर मुश्किल कार्य है, लेकिन अगर आप थायरॉयड की बीमारी से पीड़ित है, तो कुछ अतिरिक्त वज़न को कम करना और भी मुश्किल कार्य बन सकता है। हाइपोथायरायडिज्म (hypothyroidism), या असामान्य रूप से निष्क्रिय थायरॉयड रोग, शरीर की रासायनिक प्रतिक्रियाओं में असंतुलन का कारण बनता है।





 धीमी चयापचय (metabolism) की प्रक्रिया और वजन बढ़ना हाइपोथायरायडिज्म के दो लक्षण है।हाइपोथायरायडिज्म को पूर्ण रूप से पहचानकर और व्यक्तिगत तौर पर आहार में परहेज, नियमित व्यायाम करके, और संभवतः सही उपचार लेकर, आप बीमारी के होते हुए भी वज़न कम कर सकते हैं।