Tuesday, 25 April 2017

गरम पानी की भाप से निखारे सौंदर्य

प्रकृति की छोटी से छोटी वस्तु भी हमारे सौंदर्य को कई गुणा निखार सकती है उन्ही में से एक तरीका है गर्म पानी की भाप लेना | खासतौर पर सर्दियों में भाप संबंधी उपचार का काफी उपुयोग होता है

आइये जाने भाप के कुछ अन्य फायदों को :- 
1 त्वचा की गहराई से सफाई करने और त्वचा को प्राकृतिक चमक प्रदान करने के लिए भाप लेना एक बेहतरीन तरीका है।


चावल के माढ़ से निखारे रंगत

विश्व की अधिकाँश जनता चांवल को अपने मुख्य भोजन के रूप खाती है. विश्व में खाफी सारी चांवल की प्रजाति उपलब्ध है , जिनकी अलग अलग विशेषताएं है. इसलिये आज अधिकांश देशों में चांवल मुख्य आहार में शामिल है.

चावल में अच्छी मात्रा में कार्बोहाइड्रेट, फाइबर,नियासिन, विटामिन डी, कैल्श‍ियम, आयरन, थायमीन और राइबोफ्लेविन पाया जाता है. इसलिये चांवल पौष्टिकता से भरपूर भोजन है. इसके गन यही ख़त्म नहीं होते छानवाल पकने पर चांवल का पक्का पानी जिसे आम भाषा में माढ़ कहते है वो भी बहुत उपयोगी होता है


गर्मियों में मलाई का कमाल का उपयोग । ज़रूर अपनाए…..

जरूरी नहीं कि सर्दी में ही होठों पर पपड़ी और चेहरे पर खुश्की आती हो। गर्मियों में भी पानी की कमी से होठों में रूखापन आ जाता है तथा होंठ फटे फ़टे हो जातें हैं। क्रीम आदि तो आप हमेशा ही ट्राय करती आई हैं, 


लेकिन कभी घर में हमेशा उपलब्ध रहने वाली उपयोगी क्रीम यानी मलाई पर भी नजर डाल लें। मलाई का कुछ इस तरह भी प्रयोग किया जा सकता है


रात को सोने से पहले करें इस जूस का सेवन, हो जाएगा मोटापा छूमंतर ! जरूर पढियेगा

आज के समय की बात करें तो हम दूसरा व्यक्ति मोटापा की चपेट मे आ चुका है। जिसके निजात पाने के लिए आप हर तरह के उपाय अपनाते है। रोज जिम जाना, योगा, डाइटिंग करते है।


कई लोग तो मोटापा से निजात पाने के लिए दवाओं का भी इस्तेमाल करते है। जिससे कि इस मोटापा से मुक्ति पा सके, लेकिन आप जानते है कि इन दवाओं का साइड इफेक्ट भी होता है। जो आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता है


रिफाइंड आयल की जगह बनाये सरसो के तेल में खाना ! ये आपके लिए बहुत ही फायदेमंद है !! जरूर जाने

आजकल ज़्यादातर लोग खाना पकाने के लिए रिफाइंड आयल का इस्तेमाल करते है.अगर आप भी अपने किचन में रिफाइंड आयल का इस्तेमाल करते है


 तो आपके लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि यह आपकी सेहत पर क्या असर डाल रहा है. रिफाइंड आयल आपकी सेहत के लिए काफी नुकसानदेह साबित हो सकता है


मोटापे का काल है जीरा और निम्बू का ये प्रयोग।

जो लोग मोटापे से परेशान हैं और मोटापे को दूर करने के लिए अनेक तरह के प्रयोग और पैसे बर्बाद कर के थक चुके हैं तो हम बता दें के ये प्रयोग मोटापे के लिए काल साबित होगा। आप अपने रिजल्ट लेखक के साथ ज़रूर शेयर करें

बिलकुल साधारण सा दिखने वाला ये प्रयोग सिर्फ थोड़े से दिनों में अपना रिजल्ट आपको दिखा जायेगा। और बड़ी बात ये है के ये नुस्खा बिलकुल आसान है। आइये जाने।


जीवन भर निरोग रहने का 2 औषधियों का ऐसा चमत्कारी योग जो हमेशा जवां रखे



तिल वाले आलू बनाने की विधि

सामग्री

  • आलू – 4
  • सफेद तिल – 4 चम्मच

  • लाल मिर्च पाउडर, – ½ चम्मच
  • गरम मसाला – ¼ चम्मच
  • नमक – स्वादानुसार
  • तेल – 1 बड़ा चम्मच


किस्मत वालों के शरीर में होते हैं इन 5 जगह तिल

1

खुशकिस्मती के तिल

मानव शरीर में प्राकृतिक तौर पर कई जगह तिल होते हैं। ​कई लोगों को शरीर के ये तिल बहुत अच्छे लगते हैं तो कई लोगों को इन तिल से नफरत होती है। असल में ये सब इस बात पर निर्भर करता है 


कि तिल किस जगह पर है। ज्योतिष के आधार पर आज हम आपको शरीर के कुछ ऐसे प्वाइंट्स बता रहे हैं जहां तिल होना बहुत अच्छा और शुभ होता है


सिर्फ 1 दिन ये बैलेंस्ड डाइट फॉलो करें, रातों-रात होगा इससे ये 1 चमत्कार

फल और सब्जी को खाएं, न कि रस के रूप में पीएं
- कार्बस आपकी हेल्दी डाइट में अहम भूमिका निभाता है
- फैट से एनर्जी मिलती है


जब भी डाइट की बात आती है, तो लोग ‘कम खाने’ और ‘फैट पर प्रतिबन्ध’ लगाते हैं। लेकिन मेरा ऐसा मानना है कि हमें खुद के शरीर को हानि न पहुंचाते हुए सही और बैलेंस डाइट लेनी चाहिए। ज़रूरी है सही तरीके और खाने की सही मात्रा को अपने हेल्दी लाइफस्टाइल में शामिल करने की।
एक बैलेंस्ड डाइट क्या होती है? ऐसी डाइट, जिसमें आपके शरीर को हर तरह के न्यूट्रीयंट्स मिल सके। इसमें मैक्रोन्यूट्रीयंट्स जैसे प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स और फैट मौजूद हो। साथ ही माइक्रोन्यूट्रीयंट्स जैसे विटामिन्स और मिनरल्स शामिल हों। हर चीज़ को अपना एक कार्य होता है, जो तरह-तरह के बॉडी फंक्शन्स को नियंत्रण में रखने के लिए ज़रूरी होता है।
न्यूट्रीयंट्स के ये कॉम्बिनेशन पांच तरह के फूड ग्रुप से बनता है- फल और सब्जियां, सीरियल और पल्सिज़, मीट और दूध उत्पाद और फैट और तेल। रूल काफी आसान है, लेकिन केवल यही पूरी स्टोरी बयान नहीं करता है- आपको रोज़ में यह सभी चीज़ें कितनी लेनी चाहिए, प्रोटीन और कार्बस को खाने में शामिल करने का सबसे अच्छा समय कौन-सा होता है और इन्हें कितनी मात्रा में लेना चाहिए, जैसी चीज़ें भी आवश्यक होती हैं?