Thursday, 10 November 2016

माइग्रेन ............. ।

माइग्रेन ............. ।


आधुनिकता की अंधाधुंध दौड ने मनुष्य को जहां एक तरफ भौतिक सुख सुविधाओं का पुरस्कार दिया हैं। वहीँ इसी दौड ने मनुष्य को अनेक रोगों के रूप में अभिशाप भी दियें है। जिसमें माइग्रेन दुनिया भर में 10% से अधिक लोगों को प्रभावित करता है।
लक्षण :-
1. इसमें सिर के आधे भाग में भीषण दर्द होता है।
2. कई बार यह शुरू में हल्का होता है, लेकिन धीरे-धीरे बहुत तेज दर्द में बदल जाता है।
3. अधिकतर यह सिरदर्द के साथ शुरू होता है और ऐसा लगता है कि कोई कनपटी पर प्रहार कर रहा है।
4. किसी-किसी मरीज को अजीब-अजीब सी छायाएं नजर आती हैं। किसी को चेहरे और हाथों में सुइयां चुभने का एहसास होता है।
5. माइग्रेन का दर्द ४ से ४८ घंटे तक रह सकता है। कभी यह रह-रहकर कई हफ्तों या महीनों तक, या फिर सालों तक खास अंतराल में उठता है।
6. अक्सर जी मिचलाता है, और उल्टी भी हो जाती है। इसका अटैक होने पर मरीज को रोशनी, आवाज या किसी तरह की गंध नहीं सुहाती। इसका हमला अचानक होता है।
7. कभी कभी सिर के एक हिस्से में मुक्कों का एहसास होता है, लगता है कि सिर अभी फट जाएगा। उस समय अत्यंत साधारण काम करना भी मुश्किल हो जाता है। यह एहसास होता है कि किसी अंधेरी कोठरी में पड़े हैं।
शुद्ध देशी इलाज :-
1. पीपल के कोमल पत्तों का रस रोगी व्यक्ति को सुबह तथा शाम सेवन करें ।
2. कुछ दिनों तक तुलसी के पत्तों का रस शहद के साथ सुबह के समय में चाटना चाहिए तथा इसके अलावा दूब का रस भी सुबह के समय में चाट सकते हैं।
3. देशी गाय का ताजा घी सुबह-शाम दो बूंद नाक में रुई से टपकाने से इस रोग में आराम होता है।
4. आयुर्वेद के अनुसार अदरक सिर दर्द में राहत पहुंचाता है। अगर आपको अदरक खाने में परेशानी होती है, तो आप अदरक के कैप्‍सूल का भी सेवन कर सकते हैं।
5. पिसी हुई सफ़ेद मिर्च एक ग्राम, मिश्री 2 ग्राम , देशी घी आधा चम्मच, इन तीनो को मिला कर सुबह नाश्ते से पहले थोड़े दूध के साथ लें। लगभग 15-20 दिन तक इसे उपयोग करें।
6. एक कप पानी में एक चम्मच सेंधा नमक मिला कर घोल बना लें । सुबह उठकर नित्यकर्मों से निपट कर जिस ओर दर्द हो रहा है उस ओर के नथुने में इस घोल की दो बूंदे डाल लें ।
7. नाक से भाप देकर रोगी व्यक्ति के माइग्रेन रोग को आराम मिल जाता है। नाक से भाप लेने के लिए सबसे पहल एक छोटे से बर्तन में गर्म पानी लेना चाहिए। इसके बाद रोगी को उस बर्तन पर झुककर नाक से भाप लेना चाहिए।
8. माइग्रेन का सिरदर्द कम करने के लिए एक सबसे सरल उपचार है अपने सिर पर आइस पैक रखें। आइस पैक मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह को नियंत्रित करने में मदद करता है और दर्द को कम कर देता है। प्रभावित क्षेत्र, कनपटी और गर्दन पर दर्द से आराम के लिए आइस पैक को धीरे-धीरे रगड़ें।

No comments:

Post a Comment