Thursday, 10 November 2016

वायु प्रदूषण से बचना है, तो रोजाना करें ये योगासन


वायु प्रदूषण से बचना है, तो रोजाना करें ये योगासन

वायु प्रदूषण का जिक्र आते ही हमारे सामने सड़क पर वाहनों का रेला और उनसे निकलने वाले धुएं, या बड़ी-बड़ी फैक्ट्रियों की चिमनियों से निकलने वाले गाढ़े धुएं का दृश्य उभर आता है। लेकिन शायद आपको नहीं पता होगा कि आपके घर के अंदर की वायु उससे कहीं अधिक प्रदूषित होती है
 इस मामले में राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली का हाल तो सबसे बुरा है। दिल्ली विश्व के सर्वाधिक प्रदूषित शहरों में है। ऐसे में घर के अंदर होने वाले वायु प्रदूषण के प्रति भी जागरूकता फैलाना बेहद जरूरी है।
हम घर से बाहर वायु की गुणवत्ता की निगरानी नहीं कर सकते, लेकिन घर के भीतर होने वाले प्रदूषण पर नियंत्रण रख सकते हैं। रसोई से निकलने वाला धुआं, अगरबत्ती, डिर्टजेट, पेंट के केमिकल से निकलने वाली गंध, फर्श साफ करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली फिनाइल, रूम फ्रेशनर, धूल, वायरस, बैक्टीरिया, सिगरेट से निकलने वाला धुआं ज्यादातर घरों में मौजूद रहता है, जिसमें लोग सांस लेने को मजबूर रहते हैं।
अगर आप इस प्रदूषण से बचना चाहते है, तो सुबह के समय योग करना काफी फायदेमंद हो सकता है। इसस आप वायु प्रदूषण से तो बच ही सकते है साथ ही आपकी शरीर भी एक दम फिट रहेगा। रोजाना करें ये योगा जिससे आप बचे रहें कि इस प्रदूषण से। जानिए इन योग के बारें में।
बाह्य प्राणायाम
सामान्य स्थिति में बैठकर गहरी सांस लें। अब पूरी सांस को तीन बार रोकते हुए बाहर छोड़ें। शरीर से हवा पुश करने के लिए अपने पेट और डायाफ्राम का इस्तेमाल करें। लेकिन, ध्यान रखें श्वांस छोड़ना आपके लिए किसी भी स्थिति में असहज न रहे। अपनी ठोडी को अपने सीने से स्पर्श करें और अपने पेट को पूरी तरह से अंदर और थोड़ा ऊपर की ओर खींच लें।अपनी क्षमता के हिसाब से इस स्थिति में बैठे रहें। फिर अपनी ठोडी धीरे से ऊपर उठाएं और धीरे-धीरे में सांस लें।  फेफड़ों को पूरी तरह से हवा से भर लें। तीन बार इस प्रक्रिया को दोहराएं।

No comments:

Post a Comment